दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Wednesday, August 22, 2007

प्रेजेंटर जी को मेरा प्यार भरा नमश्कार



ये बात पिछले कई बरसों से कही जा रही है कि रेडियो अब एक नयी चमक के साथ वापस आ रहा है. एफ़एम रेडियो के आने के बाद ही इस बात को आधार मिला है जो लगातार पुष्ट हो रही है. इस नई रेडियो प्रोग्रामि‍ग का बुनियादी संकल्प है-रेडियो को इंटरेक्टिव बनाना. कुछ लोग इसकी विशेषता यह भी बताते हैं कि युवा पीढ़ी को संबोधित है. बहरहाल इस नये रेडियो कल्चर और उसकी दशा-दिशा की पड़ताल होती रहेगी, हम तो यहां इस फ़ेनोमेनल बिज़नेस के उस पहलू पर आपकी तवज्जो चाहते हैं जो शायद आपकी नज़रों से ओझल है.
हाल ही में आये प्रायवेट एफ़एम चैनेल्स तो अपने श्रोताओं से फ़ोन, एसएमएम और ई-मेल के ज़रिये ही संपर्क करने को कहते हैं जबकि ऒल इंडिया रेडियो के एफ़एम चैनल्स पर आनेवाले पत्रों की संख्या और विविधता हमें असली हिंदुस्तान में होने का एह्सास दिलाती रहती है. हम अपने प्रोग्राम्स में आमतौर पर कुछ रस्मी चिट्ठिया तो शामिल कर लेते हैं लेकिन इन चिट्ठियों का क्या करें?
---------------------------------------------------------------------------------
श्री शंकर भगवान जी,
आपका गाना बहूंत अच्छा लगता है. आपके एफम पर हमको गाना बहूंत अच्छा लगता है. हम को गाना को फरमाईस है. एक गाना सपेरा का
एक गाना सावन का
एक गाना झूट बोले कौआ काटे
एक गाना जब मैं होती राजा बरबरसके मकती राजा तेरे बंगले पर जब होती राजा बन के कोयलिया कू कू करती राजा तेरे बंगले पर...
एक गाना और है
आंखों मे काजल डाले हो गई मैं कूरबान.
आपके पास ५ गाना का फरमाईस आपस आना चाहिये.

सरीर मे अलरजी सफेद दाग हो गया है. आप कूछ दावा बता सकते हो हम अब हसपिटल मे देखा रहा है. अभी ठीक नहीं हूआ है. हम दावा खात खात तंग हो गया है.आप कूछ बताएगा आपका मेहर बानी होगी आपका मेहर बानी होगी

मोतीलाल पासवान जी, सागरपूर
दील्ली से
-----------------------------------------------------------------------------------

Dear FM presenter,

Letter पढ़ने वाले ज़ुल्फ़ हटाकर पढ़ना
आपको हमारी कसम, मुस्करा कर पढ़ना

Letter लिखने वालों का नाम है--सोनू, Sikha. हमें आपका प्रोग्राम बेहद पसंद है. हम आपका चैनल 1 Sep सुन रहे हैं.
हमें आपके सभी presenters की आवाज़ व उनके बोलने का तरीका बहुत पसंद है. यह हमारा पहला letter है. आशा है आप इसे ज़रूर शामिल करेंगे. हम इस प्रोग्राम के माध्यम से अपनी प्यारी भाभी (रचना) जिनकी शादी हमारे भाइया(सुनील)से 30 नवंबर को होने जा रही है. हम उन्हें ढेरों बधाइयां देना चाहते हैं.
हम अपनी Ritu दीदी को भी बधाइयां देना चाहते हैं जिन्होंने अभी हाल ही में हमें एक सुंदर भांजा दिया है जिसका नाम राहुल रखा गया है.
हम अपनी भाभी के लिये अभिमान फ़िल्म का गाना तेरी बिंदिया रे... सुनना चाहते है. Please song अवश्य दें.
Thank you
from
100नू , Sikha
बहादुरगढ़, हरियाणा
------------------------------------------------------------------------------------
ऊं नमः शिवाय
महोदयजी मधुर मिलन मधुर यादें व मुस्कुराहटें,
आपके पूरे स्टाफ को धन्यवाद.प्रस्तुती आप सब का सराहनीये तारीफ के आप सब पात्र हैं. मैं एक आधी उमर की महिला हूं. उमर 48 साल. ज्यादा कुछ ढंग से पत्र लिख ना पाई तो क्षमा करना. पहले पत्र विविध भारती को लिखती थी जवाब नहीं मिलती इसीलिये अब नहीं लिखती. परंतु जिंदगी मेरी अब वीराना-तन्हा मायूसी-उदास होने के कारण तकदीर एफएम को पत्र लिखकर आजमाना चाहती हूं. देखे शायद जवाब मिले. आपके गीतों को सुनके एक सुच्चा-सच्चा मित्र का एहसास होता है. मेरे विराने को आराम देने वालो आप जियो बहुत जियो और दिन हों पचास हजार. आप लोग अंग्रेजी बोलते हो. अंग्रेजी बोलो सीखो परंतु घर में इस्तेमाल न करो. आप का चैनल हम जैसे मीडियम मिड्ल पब्लिक के लिये रहे तो सभी को जीने का एक रास्ता मिलेगा. आपको चाहिये कि नन्हे बच्चों को नसीहतें जैसे कि बड़ों का आदर करो घर कोई आये तो यदि मां बाप घर में नही है तो संदेशा ले और गुरु की आदर आदी. हमारा पुराना संस्कृत और बड़ों का मान रास्ता भटकों को राह दिखाना अतिथि आदि जैसे कि एकलव्य, महात्मा बुद्ध गांधीजी का बचपन, झांसी की रानी का बचपन, दुर्गावती, पद्मिनी, पन्ना दाई, विद्यासागर, टैगोर जैसे जीवनी बच्चों को कहानियों के साथ साथ भक्ती गीत बचपन की शरारतें प्यारे-प्यारे और लोरी भी प्रोग्राम दो. रफीजी, किशोर जी, मुकेश जी, मन्ना डे, लताजी, आशाजी, तलत जी और हेमंत जी यानी १९५२ से १९८० तक के बहारे यानी दर्द खुशियां भी, पर आजकल के हथौड़े मार पैर हाथ काट के झटके नहीं नहीं कहीं तो हमें आराम से रहने दो.
ये पत्र मैं १.३० बजे रात्री को लिखना शुरू की थी तकदीर आजमाने को लिखरही हूं पता नहीं जवाब मिले कि नहीं.
खामोश शमा जलती है, पिघलती है
जो दर्द सीने मेम छुपाए है, कितने सितम छुपाए हैं.

बैठे हैं रहगुजर पे दिल का दिया जलाये
शायद वो दर्द जानें शायद वो लौट आएं

आशा शर्मा
दक्षिणपुरी, दिल्ली
१५-१०-२००१
------------------------------------------------------------------------------------ From Ghanshyam S.Kwatra
09-08-2000
Madam Zoony,
What a presentation and what a हंसी & what not. Just now I paased one hour so happily listening to 7-8 pm wed.
I am a frustrated old man- 66 1/2 years. I am very fond of Songs.Lost my wife May 98 of cancer.Elder son with his wife in USA. Younger son Mandeep 28- a patient of Schizophrenia, a deadly mental illness (partially curable)is admitted in a hospital in Madras since 1st June. I am all alone-Retd from a Pvt Co. and passing my time SOMEHOW listening to FM as long as 1AM.
Your presentation won my heart. Blessed are those parents who gave birth to such a child. Could you include songs of Talat, Mukesh, K.L.Segal, Geeta Dutt, Noorjahan, Shamashad Begum etc?
Thanks
-----------------------------------------------------------------------------------
Dear Qutubminar(Rony),
रो-रो कर पूछा पांव के छालों ने, कितनी दूर
बस्ती बना ली,दिल में कभी बसने वालों ने
Happy New Year 2001
I would like to platonic friendship only please accept me.
Yours
Ajay Kumar

गीत- तुम दिल की धड़कन हो...
------------------------------------------------------------------------------------
बचपन से अब तक मैंने बहुत दुख सहे. वो दुख कम नहीं था जब पिताजी ने मदरसे में भेजकर मेरे दो साल बरबाद करवा दिये.दो साल बाद जब मैं दोबारा अपने उसी स्कूल मे पढ़ने गया तो ईश्वर से पूछो मेरे दिल का क्या हाल था. मैं जिन छात्रों के साथ पढ़ रहा था, जो मेरे दोस्त थे, वो मुझसे दो साल आगे निकल गये थे, ये दुख भी कम नहीं था. और वो दुख भी कम नहीं था जब मेरा पैर टूट गया था, मेरे पैर के तीन ऒपरेशन्स हुए थे.जब मैं लगभग एक साल तक घर में एक ही जगह पर लेटा रहता था क्यों कि पैर पर प्लास्टर चढ़ा हुआ था, चल नहीं सकता था.बिस्तर पर बैठकर ही शौच करता था. वो मेरा बचपन था.
कोई मेरा दुश्मन बन गया मुझे दुख नहीं हुआ. किसी दुश्मन से लड़ाई हुई दुख नहीं हुआ. किसी ने धोखा दिया दुख नहीं हुआ. लेकिन जितना दुख मुझे गुंजन दीदी ने दिया है, पिछले तीन सालों में-मैं वह नहीं झेल पाया.ये दुख तो मैने अपने जीवन में कभी महसूस ही नहीं किया. हे ईश्वर! इतने दुख इतने ग़म जो गुंजन दीदी ने मुझे दिये, वो तो मैं झेल ही नहीं पाया. इन दुखों ने तो जीने भी नहीं, मरने भी नहीं दिया. हे ईश्वर अगर तू मुझे ऐसे दुख देता है, तो इन्हें सहन करने की शक्ति भी मुझे दे.
"हमसे मत पूछो कैसे मंदिर टूटा सपनों का
लोगों की बात नहीं है ये क़िस्सा है अपनों का
कोई दुश्मन ठेस लगाए तो मीत जिया बहलाए
मनमीत जो घाव लगाये उन्हें कौन मिटाए??

इमरान
03-12-02
*************
दो-तीन दिन पहले रिहान ने घर में मांस के कोफ़्ते बनवाए. मैं मांस नहीं खाता हू, तो मैने अपनी मां से कहा कि "मेरे लिये चावल बना देना." चावल बन गये तो शाम को नाज़रीन ने भाई से मेरी चुग़ली करी-"ये(मैं)हमें रोज़े में परेशान कर रहा है.जो चीज़ घर में बनती है उसे नहीं खाता है और अपने लिये दूसरी चीज़ बनवाता है." ये सारा ड्रामा रिहान करवा रहा था. मैने ग़ुस्से में कहा कि "अगर ये चावल मैंने बनवाए हैं, तो तुम मत खाना, तुम क्यों खा रहे हो?" तो नाज़रीन ने कहा "जब हमने बनाए हैं तो क्यों न खाएं?" मैने कहा "तो फिर मेरी चुग़ली क्यों कर रही हो?" इस पर उसने कहा "तू अपनी रोटी ख़ुद बनाकर खाया कर." नाज़रीन से मेरी बोलचाल बंद है क्योंकि वह 27 साल की तो हो गयी है, लेकिन मां-बाप के सामने भी छिछोरापन करती है. इसलिये मैं कुतिया से बोलता नहीं हूं.
मैं अपनी रोटी बनाकर खा सकता हूं, लेकिन सोच रहा हूं कि जब मैं शादी करूंगा, तो रोटी क्यों बनाऊं? गुंजन दीदी याद रखना अगर मैने रोटी बनानी शुरू कर दी, तो क़्सम से शादी नही करूंगा. मुझे जवाब दो, अगर चाहती हो कि मैं अपनी रोटी ख़ुद बनाकर खाऊं, तो मैं अकेला रहूंगा.
वैसे ये सारे काम नाज़रीन से र्रिहान सुअर करवा रहा है. मैं नाज़रीन से बोलचाल नहीं करूंगा. इस रंडी से कह देना कि मुझे बदतमीज़ मत बना, ग़ुस्से में मेरे मुंह से गालियां निकलने लगती हैं.

इमरान
29-11-02
*************
30 नवंबर को चलते-चलते प्रोग्राम रंजीव जी ने किया था. रंजीव जी मैं उस कार्यक्रम को सुनता नहीं हूं जिसमें ज़्यादा बात करी जाती है.आपने इस कार्यक्रम में दो गानों के बीच सात मिनट बात करी.ये बात अच्छी नहीं है. क्या आपने बात करने का कोर्स कर रखा है? एक घंटे के कार्यक्रम में दस गाने बजने चाहिये.और आप कृपया पाश्चात्य संगीत को बैकग्राउंड म्युज़िक न बनाएं. मुझे ये स्टाइल बहुत बुरी लगती है.
मैं आपका दोपहर वाला कार्यक्रम इसी लिये नहीं सुनता हूं क्यों कि एक तो उसमें बातें ज़्यादा होती हैं और गाने कम बजते हैं दूसरे आपके मेहमानों की बातें मुझे अच्छी नहीं लगती हैं. जीवन, प्यार और शादी- इन तीनों विषयों पर इन लोगों के विचार मेरेविचारों से बिल्कुल विपरीत होते हैं. इनकी बहुत सारी बातें बिलकुल ग़लत होती हैं, इनकी बातों से मै अपना दिमाग़ क्यों ख़राब करूं.
कुछ RJs ऐसे हैं जिन्हें अपनी प्रशंसा करवानी ही अच्छी लगती है. हम आपके कार्यक्रम सुनते हैं इससे बड़ा आपकी प्रशंसा का सुबूत क्या होगा. जो चीज़ मुझे अच्छी नही लगती है मैं उसके बारे में साफ़ लिख देता हूं, चाहे वो किसी को बुरी लगे या अच्छी. लेकिन कहता सच हूं झूट मैं नहीं बोलता हूं.

इमरान
30-11-02
-------------------------------------------------------------------------------------
मेरे प्रिय भतीजे,
सिर्फ़ इतना ही कहूंगा कि जिसकी मुझे तलाश है वो तेरी दुनिया का बंदा नहीं है, अंधेरे में तीर चलाना तुम्हे शोभा नहीं देता है.हकीकत मैं ही बताए देता हूं भतीजे. जो निर्दोषों का क़त्ल करके भागते रहते हैं उनके चेहरे का नकाब उलटना जरूरी हो जाता है.बस इतना समझ लो मुझे न तो तुम्हारी कोई सलाह चाहिये और न ही सहयोग.
भतीजे बुरा न मानना इस मामले से तुम्हारा कोई संबंध नहीं है अतः इस मामले को हमारे ढंग से ही सुलझाने दो, तो बेहतर रहेगा. भतीजे तुम्हारी दुनिया तुम्हे मुबारक.
कोड की जानकारी बाद में दूंगा. +२३२०४४ फ़ोन.
सहयोग देने वाले को पूरा मान दिया जायेगा.
भतीजे बंदा होली, दिवाली नहीं मनाता, चचा के व्यवहार तो 365 दिन चलते हैं. कैसे. इसका जवाब ढूंढो तो जानें. चचा रात क नहीं दिन का बाद्शाह है.अच्छा भतीजे चलता हूं तेरा नज़्ररिया तुझे मुबारक.

तेरा चचा
१२-०३-२००३
------------------------------------------------------------------------------------
श्री गणेशाय नमः
मुझे आपके सभी कार्यक्रम बहुत ही आच्छा लगता है.
मेरा घड़ी का दुकान है जो मैं काम करते-करते सुनता हूं और जो काम नहीं होता है वो काम भी गाना सुनने के मगन में पूरा हो जाता है. इसलिये मैं कहता हूं कि संगीत में ही जादू है. सभी कार्यकर्ता को मेरा धन्यवाद.

मेसर्स अर्जुन वॊच सेंटर
कसारीडीह, दुर्ग
छत्तीसगढ़
-------------------------------------------------------------------------------------
प्रोग्राम:गाता रहे मेरा दिल
फ़िल्म: शागिर्द
गीत: पराई हूं पराई...
स्वर: लता मंगेशकर
खोया मंडी गंजडुंडवारा से
-अब्दुल सत्तर अंसारी
-एम.कलीम ज़ख़्मी
-वी.पी.गौतम
-मुनव्वर लल्ला
-दानिश अंसारी
-------------------------------------------------------------------------------------
प्रेज़ेंटर साहिबा नमस्कार.कैसी हैं. आप आपको सर्दी कैसी लगती है कैसा लगता है. यह मौसम, क्या करती हैं.आप,क्या पसंद करती हैं. खाने मे आप, इस ठिठुरते मौसम में आपकी प्यारी स्वीट-स्वीट सी होठो से निकलती आवाज इस कार्यकम को महका देती है इस चमन में बहार आ जाती है. एक शेर लिख रहा हूं अपनी प्यारी दोस्त खुशी के लिए,

बुलबुल की ज़िंदगी पेड़ों की डाल पर,
जिंदगी है अनमोल इसे रखना संभालकर.
कितनी हंसी है जिंदगी मगर लाखों हैं इसमे गम भी,
मौत की परवाह किये बिना जीने वाले हैं इस जहां में हम भी.

किला विजयगढ़ से,
श्याम सक्सेना
आर एम सक्सेना
-------------------------------------------------------------------------------------
परजेंटर जी को मेरी प्यार भरी राम राम

मेरा नाम बबलू बाद्शाह है मैं गांव छतर्पुर में रहता हूं और सुपर मार्केट हीरा नगर में ड्राई क्लीनिंग की दुकान करता था. परिवारिक विवाद के कारण मैंने दुकान और घर छोड़ दिया है. और अब मैं घर से अलग रहरहा हूं.मेरी सभी दोस्तों से प्रार्थना है कि अब वो मेरे घर पर टेलीफोन न करें. मैं नहीं चाहता कि मेरे घर वालों मेरे दोस्तों का अपमान करें. मेरी आपसे प्रार्थना है कि मेरा यह संदेस मेरे दोस्तों तक जरूर पहुंचा दें
कृपया मेरा खत पूरा पढ़ें.

नया निकेतन से लिखते हैं
बबलू बाद्शाह
शिवांगी बाद्शाह
-------------------------------------------------------------------------------------
पत्रों में मौजूद व्याकरण और वर्तनी की अशुद्धियों को जस का तस रखा गया है. जगहों और लोगों के नाम बदले गये हैं.
इरफ़ान

4 comments:

Jagdish Bhatia said...

प्रेंजेटर जी को यह सब पढ़वाने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।
खूब हंसवा दिये :D

vimal verma said...

भाई अच्छा लगा सारे पत्रों को पढ़ना...गज़ब चिट्ठियां छांट कर लाये हैं आप..अद्भुत है ये रेडियो टीवी की दुनियां.और उनके श्चोता और दर्शक.. हमारे यहां तो फ़िल्म स्टारो को प्रेमपत्र भेजा करते हैं और चाहते है कि उनके मन की बात स्टारों तक पहुंचा दी जाय...

रविकान्त said...

इरफ़ान भाई,

ये पत्र बड़े मार्मिक हैं. और मेरे बड़े काम के. इन्हें खुले जनपद में छोड़ने का बहुत बहुत शुक्रिया. इमरान की वो शिकायत भली लगी कि प्रस्तोता इतनी बातें क्यों करते हैं, उन्हें गाने सुनवाने चाहिएँ. मुझे लगता है कि सरकारी एफ़ एम चैनलों ने अब भी काफ़ी कुछ सुनने लायक़ मिलो जाता है, लेकिन वहाँ भी अब कुछ लोग निजी चैनलों की अंधाधुंध नक़ल करने लगे हैं जो उन सबको एकरंगा, यकरस बना देता है.

आज मौक़ा मिला है सब कुछ पढ़ डालूँगा.

रविकान्त

दीपा पाठक said...

अद्भुत पोस्ट है इरफान भाई। आनंद आ गया। रात को एक बजे बैठ कर रेडियो वालों को चिट्ठी लिखने वालों की भावनाओं को तो समझो जनाब़। और देखो इमरान भाई ने गुंजर दीदी से जो चोट खाई है उसका दर्द चिट्ठी से जो छलक-छलक के गिर रहा है समेटते नहीं सिमट रहा। बहुत बढ़िया।