दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Friday, September 4, 2015

गोली बाबू और दादू


वीरेन दा की ताज़ा कविता उनके ही स्वर में. 04.09.2015, शाम 7.30 , गांधी शान्ति प्रतिष्ठान, नयी दिल्ली

Sunday, May 10, 2015

तीन रोज़ इश्क़


कल Puja Upadhyay ने अपनी पहली और ताज़ा किताब 'तीन रोज़ इश्क़' से दो टुकड़े Indian Women Press Club में पढ़े.