दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Wednesday, July 17, 2013

ये तसर्रुफ़ अल्ला अल्ला...

सैगल साहब

एह ऐ मेरा गीत किसे ना गाणा...

एह ऐ मेरा गीत किसे ना गाणा एह मेरा गीत मैं आपे गाके भलके ही मर जाणा शिव कुमार बटालवी

Sunday, February 3, 2013

मोहें पागल बना के जवानी में...


फ़िल्म: सैंयां मगन पहलवानी में (1983) आशा भोंसले/ अंजान/ चित्रगुप्त

Sunday, January 27, 2013

किरन लखनवी की लिखी 'दहीवाली' से एक हिस्सा


शांति घर से मदनचंद की तलाश में निकल ही पड़ती है क्योंकि अब उसके पास 'मदनचंद की याद ही बाक़ी रह गयी है'. मदनचंद तो कोकिला की कूक का दीवाना है. दहीवाली के दही और कोकिला के दूध की धार के बीच मदनचंद बेचारा. (गूगल की पकड़ से बाहर किरन लखनवी) Artistes:- Azim. Razia Munni Ketkiwali Neyamat Ali. Amir Chand Shekhar. Kamlesh Mushtaq. Kamlesh Mishra Ishrat Ali Sharafat Ali Writer: Kiran Lakhnavi Music: Charan ji