दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Monday, December 29, 2008

गंदे गाने: एक श्रृंखला: एगो चुम्मा देहले जाया हो करेजऊ...

NEW PLAYER Image courtesy: google.com

2 comments:

ब्रजेश said...

जीवन की पहली किताब खरीदी थी जिसमें यह गाना था। दरअसर किताब का शीषक ही था एगो चुममा--बड़ी शान से घर लाकर पढ रहा था लोग मुसकुरा रहे थे। तब पता नहीं था कि यह गंदा गाना है। आपने बचपन की याद दिला दी।

pankaj said...

yeh to meena bazar wala gana hai ..
cycile mistri k gramophone se suna tha... na jane kitani bar...