दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Wednesday, August 6, 2008

राजीव सक्सेना पर केंद्रित एक विशेष कार्यक्रम

कल ऍफ़ एम गोल्ड ने राजीव सक्सेना पर केंद्रित एक विशेष कार्यक्रम सुबह ग्यारह से बारह बजे तक पेश किया । आकाशवाणी के लिए यह एक अहम फैसला माना जाएगा। सुनिए

Part-1(Approx 30 min)


Part-2 (Approx 30 min)


इस कार्यक्रम को Unedited सुनने के लिये यहाँ और यहाँ जाएँ.

7 comments:

Lavanyam - Antarman said...

दिवँगत को हमारी ,
भारी ह्र्दय से
श्रध्धाँजलि अर्पित करते हैँ.

sanjay patel said...

इरफ़ान भाई सोचता हूँ राजीव भाई जैसे मेहनती लोगों ने प्रसारण की दुनिया कितना कुछ बेमिसाल दिया. कितना समय,कितनी कल्पनाशीलता,रचनात्मकता,उर्जा ...
समय ही शायद उनके अवदान का मूल्यांकन कर सके वरना दुनिया तो अपने काम-काम में मसरूफ़ है ही.

टीवी ने जिस तरह से क्रिकॆट की रेडियो कमेंट्री को रौंदा उसके बाद लग रहा था कि अब वह सुनहरा दौर गया.लेकिन वेस्ट इंडीज़ में हुए विश्व कप और उसके पहले वेस्टइंडीज़ के दौरे के समय रेडियो कमेंट्री को जिस तरह से राजीव भाई ने री-डिसकव्हर किया वह अब इतिहास का हिस्सा बन गया है.
कमेंट्री में घुसपैठ कर चुकी अंग्रेज़ीयत को राजीवभाई ने ख़ारिज किया. रेडियो कमेंट्री में सिर्फ़ आवाज़ देने काम नहीं किया उन्होंने ..वे एक बेहतरीन ऑरगेनाइज़र भी थे.
मेरे जैसे कई लोग राजीव सक्सैना से मिले नहीं लेकिन उनके एनर्जी लेवल को यहाँ दूर इन्दौर में मैं महसूस करता रहा हूँ.

जब जब उन लोगों को याद किया जाएगा जिन्होने रेडियो को पैशन और जुनून समझा ; राजीव सक्सैना बार बार याद आएंगे.

Udan Tashtari said...

श्रध्धाँजलि.

अखिल said...

इरफान भाई
किसे किसे सांत्वना देगें। दूसरों को तो दे लेंगें, खुद से क्या कहेंगे। दिनकर जी के जाने पर बैरागी जी ने लिखा था- दिनकर निपूता नहीं मरा है- कुल गोत्र हमारा जो भी हो ये सारा वंश तुम्हारा है।
हम आप भी इतना भरोसा तो दिला ही सकते हैं अपने राजीव को। सुना राजीव---------
अखिल मित्तल

Anonymous said...

Irfan ji,

Namaskar..

Aaj Rajeev Sir ke baare mein pata chala.. subah se sunn si ho gayi hoon. Samajh nahi aa raha ki kya kahoon aur kise kahoon..

Jab mujhe pata laga to maine fauran Chhibber Sir ko phone kiya is aasha ke saath ki shayad woh kahenge ki jo maine suna woh galat hai..par unki bhi aawaz kaanp rahi thi..
Aap se kabhi kabhi interent par mulakat hoti hai isliye aap hi ko likh rahi hoon.. Samajh nahi aa raha ki kisse kahoo ki jo hua woh galat hai..ye nahi hona chahiye tha..Rajeev Sir bas aise nahi chale ja sakte..Unse kitna kuchh seekha hai..Subah se unka chehra saamne ghoom raha hai.. woh kaise muskura kar studio aakar poochhte the batao "aaj kispar programme karoon?" Aur koi kuchh kah paye isse pehle hi woh shrotaon ke saath ek dilchasp baatcheet ka silsila chhed lete the..

Abhi kuchh din pehle hi aapke blog par unka interview suna tha aur ek baar phir ye ehsaas hua tha ki woh shabdon se kitne khoobsurati se khelte hain aur jaankari ka athah bhandar hain unke paas aur kitni aasani se apni baat kah jaate hain. Ye soch kar garv hua tha ki maine bhi unse seekha hai aur ek aadh baar unke saath baith kar programme bhi kiya.
Tab ye nahi jaanti thi ki woh jaldi hi apne saath apne tamaam kisse kahaniyan lekar yun gum ho jayenge ki hum unki aawaz dhoondhte rahenge..

naa jaane kya kah rahi hoon..shayad aap samajh sakenge..

Rajeev Sir ko hamesha yaad karoongi.. woh ek institution the.. woh ek insitution hain.. hum hamesha unke kaam se prerna lete rahenge..

Prachi

shefali said...

irfaanji,
her roz ye blog kholti hoon aur sochti hoon ki yakeen karloon ki rajeev sir nahin hain.per nahin kar sakti,kyonki jab kabhi bhi kuch likha karoongi,koi interview karoongi ya phir pareshani mein hongi,rajiv sir aur unki hidayatein hamesha sath hongi.

18 ko unka janamdin hai,ek achhi rachna ke zariye unhein shradhhanjali dene ki koshish karoongi.
ab tak fm gold jaane ki himmat nahin juta saki hoon.bahut kathin hai.

Meenu khare said...

रेडियो पैशन और जुनून : राजीव सक्सैना बार बार याद आएंगे.
भारी ह्र्दय से श्रध्धाँजलि...