दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Tuesday, February 2, 2010

भाई प्रणय कृष्ण को सादर

गोरखपुर में परसों से फिल्म फेस्टिवल (www.gorakhpurfilmfestival.blogspot.com) शुरू हो रहा है. मैं इसकी सफलता की कामना करता हूँ ।
यहाँ मैं एक गाना प्रणय जी को dedicate करना चाह रहा हूँ. तलत साहब का गाया ये गाना प्रणय जी से मैंने एक पिछले गोरखपुर फिल्म फेस्टिवल में सुना था. नीचे फोटो में बाएं वाले प्रणय भाई हैं, काली जैकेट में .


2 comments:

Suman said...

nice

pankaj said...

bahut hi achchha gana hai,dil ko chhoo gaya,