दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Thursday, January 8, 2009

गंदे गाने:एक श्रृंखला: सैंया छुरीबाज मोरा जियरा डेराला...

2 comments:

ANIL YADAV said...

दिनवां सुतऊले....सारे महान मुख्यधारा के गीतकारों के चूतर पर चाकू की नोंक से खुजली करता जादुई यथार्थवादी गीत। धन्यवाद।

Ashok Pande said...

बढ़िया है साहब! मज़ा ये है कि बावजूद ख़राब साउन्ड क्वालिटी के इन गन्दे में बड़ा लुफ़्त आता है जभी तो गन्दे हैं. क्यों जी?