दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Saturday, May 14, 2011

कल मेरी सालगिरह पर आपने मुझे बधाइयाँ भेजीं शुक्रिया !


शुक्रिया अदा करते हुए आपको एक क़व्वाली सुनवाता हूँ। यह मेरे उस खजाने से है जिसके मोती आप गुज़रे बरसों में मेरे इस ब्लॉग पर गाहे बगाहे चुनते रहे हैं। ये बस एक बहाना है आपका दो घड़ी का साथ पाने का ।


4 comments:

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर, लाजवाब| धन्यवाद|

pankaj said...

achchhi quawwali hai.

हमारीवाणी said...

क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि


हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

Anonymous said...

Ghazab Qawwali hai Irfan bhai..bahut khoob...