दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Sunday, February 3, 2013

मोहें पागल बना के जवानी में...


फ़िल्म: सैंयां मगन पहलवानी में (1983) आशा भोंसले/ अंजान/ चित्रगुप्त

1 comment:

तुषार राज रस्तोगी said...

आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज ३० मई, २०१३, बृहस्पतिवार के ब्लॉग बुलेटिन - जीवन के कुछ सत्य अनुभव पर लिंक किया है | बहुत बहुत बधाई |