दुनिया एक संसार है, और जब तक दुख है तब तक तकलीफ़ है।

Tuesday, April 6, 2010

दूरदर्शन ऐसे भी देखा जाता था !

20 comments:

Shekhar kumawat said...

ha ha ha
]

kher hamare liye ye sab kuch ab ek aascharya janak he magar ye sach he kabhi assa mahol hamare gar me bhi huwa karta tha dada ji batate the

san 1980 ke aas pas

bahut khub

shekhar kumawat

http://kavyawani.blogspot.com/

Mired Mirage said...

हाहाहा, बिल्कुल सही।
this is called maximum utilisation of resources.
घुघूती बासूती

kunwarji's said...

yaade hi reh gayi hai ji bas.....
humne to 1992-93 tak bhi aise hi dekha hai ji...

RAJNISH PARIHAR said...

sahi me...wo bhi kya din the..

Sanjeet Tripathi said...

yes!!

is tasveer ko dekh kar apna bachpan yad aa gaya, 1982-83 me ham rahe honge 6-7 sal ke, mohalle me gin kar 2-3 gharo me tv hota tha, chitrhar ya fir ravivar ki film dekhne ke liye un gharo me tv ko aangan me darwaje ke paas la kar rakh diya jata tha aur fir mohalle wale angan me baith kar film dekhte the, 84 me apne yaha tv aaya to apne ghar me yahi hal, pura kamra bhara hota tha...

Amitraghat said...

nice shot.........आर.के. लक्ष्मण के ऐसे कई कार्टून देखे थे......"

pankaj said...

humne bhi dekha hai zamana......

रज़िया "राज़" said...

आज की आपकी पोस्ट कहुं या फ़ोटोने तो हमारी आंखों में आंसु भर दिये पता है क्यों?

" वो भी एक ज़माना था जहाँ मां-बाबा बडी,मझली,छोटी और भैया मिलकर दुरदर्शन क्वे सीरीय़ल देखा करते थे। आज सब कुछ होते हुए भी कुछ भी नहिं।

imran said...

Irfan bhai, hindustan mein aaj bhi doordarshan aise hi dekha jata hai..farak itna hai ki aap aur hum hundustan mein nahi DELHI mein rehte hain.... khamakhwah chalti firti cheezon ko heritage mat banaiye, bewajah log nostalgic ho jayenge... aisa laga ke kisi american tourist ka blog padh raha hoon, aapki is tasveer ke comments padh kar. gustakhi maaf ho.

दीपक 'मशाल' said...

Lagta hai 'Krishi Darshan' dekh rahe hain.. tabhi bahut kam bheed hai bhai.. are Ramayan ya Chitrahaar lagaiye fir dekhiye aapka camera bhi utne logon ko na simet paayega. ye tasweer hai par haqeeqat maine bhi apne hi ghar ke aangan me dekhi hai jahan itwar ko bada sa farsh bichhaya jata tha aur kam se kam 60-65 log to dekhne aate hi the..

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

दूरदर्शन पर आने वाले रामायण धारावाहिक के समय का तो हमें भी ध्यान है...जब सारा मोहल्ला एक टीवी के आगे हाथ बाँधे जुटा होता था...सच में वो भी क्या दिन र्हे!!

मुनीश ( munish ) said...

mast viewership of this post !TRP higher than DD itself !!

वीनस केशरी said...

हा हा हा
जाने कहाँ गए वो दिन ,,,,,,,,,

विनोद कुमार पांडेय said...

बिल्कुल सही चित्रण..

Anil Pusadkar said...

तब परिवार ही नही मुहल्ला और पास-पड़ोस भी एक साथ बैठ जाता था।अब तो घरों मे एक साथ नही बैठ पा रहें हैं,हर कमरे मे अलग टीवी,खाना तक़ साथ नही खा पाते।तरक्की ज़रूर हुई पर किस किमत पर?मुझे तो वो ज़माना ही अच्छा लगता था।

शरद कोकास said...

हमने भी शुरू मे ऐसे ही देखा है ।

सुशीला पुरी said...

अरे मेरे वहाँ भी ऐसे ही देखा जाता था ...और बिजली के बिना ,ट्रेक्टर की बैट्री से .

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ said...

मेरी आवाज़ ही पर्दा है मेरे चहरे का,
मैं हूँ खामोश जहां मुझको वहां से सुनिए
ये बहुत गहरी बात है अगर वाकई आप इसका सही अर्थ
समझते हैं तो समझो आप बहुत कुछ जानते हैं लेकिन
इसका सही अर्थ आदमी आमतौर पर जानता नहीं है

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ said...

मेरी आवाज़ ही पर्दा है मेरे चहरे का,
मैं हूँ खामोश जहां मुझको वहां से सुनिए
ये बहुत गहरी बात है अगर वाकई आप इसका सही अर्थ
समझते हैं तो समझो आप बहुत कुछ जानते हैं लेकिन
इसका सही अर्थ आदमी आमतौर पर जानता नहीं है

dhaarna said...

kya pahle tv aise dekha jata tha?